Site icon Devtechtips

motherboard kya hai | मदरबोर्ड के बारे में पूरी जानकारी

motherboard kya hai

motherboard kya hai

Contents hide
8 अकसर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently asked questions

मदरबोर्ड क्या है | what is motherboard in Hindi

Motherboard को mainboard, MB, baseboard, main circuit board, MOBO, backplane board, system board के नाम से भी जाना जाता है. Apple के computers में motherboard को logic board के नाम से भी जाना जाता है

कोई भी motherboard किसी भी computer का foundation होता है. motherboard किसी भी computer का biggest circuit board होता है. जो की computer के chassis में होता है. Motherboard power को allocate करने और system CPU, RAM और दूसरे computer parts के बीच communication provide करने में अहम योगदान देता है

Computer के कई internal parts होते है जो motherboard के ऊपर ही लगते है. कुछ parts तो सीधे ऊपर ही लगते है, जैसे CPU और RAM वही कुछ parts के signal और power connectors motherboard के ऊपर लगते है. जैसे hard disk, CD drive, processor आदि.

Processor जिसको CPU भी कहा जाता है वो तो motherboard के ऊपर लगता ही है. इसके अलावा memory/RAM, graphics card, hard drive सभी को motherboard से ही जोड़ा जाता है. और ये signal, command और power motherboard से ही पाते है

Motherboard भी कई प्रकार के होते है.

वैसे ही Processor व ram भी बहुत तरह की आती है और ये सभी अलग-अलग तरह के motherboard के साथ काम करते है. जैसे AMD के जो rayzen processor आते है. उन के लिए अलग motherboard होते है और intel के processor के लिए अलग motherboard आते है. इन motherboard में सबसे बड़ा अंतर CPU socket का होता है क्यु की AMD और intel का socket अलग-अलग होता है

हलांकि आपको बता दे की hard disk जो होती है वो लगभग सभी motherboard के साथ compatible रहती है.

ये पोस्ट भी पढ़े:

मदरबोर्ड फॉर्म फैक्टर क्या होता है | what इस motherboard form factor in Hindi

motherboard form factor motherboard के size और shape के specification को दर्शाता है. इसी की मदद से हम आपने cabinet के size के हिसाब से सही motherboard size का चुनाव कर सकते है. Motherboard form factor की मदद से हम न केवल motherboard size का बल्कि थोड़े बहुत उसके दूसरे features जैसे की types and quantity of mounting holes का भी पता लगा सकते है

शुरुवाती motherboard 1983 में आये थे जो की IBM के द्वारा develop किये गए थे. लेकिन उसके बाद से technology काफी बदल चुकी है और 40 से भी अधिक प्रकार के motherboards आ चुके है. एक सामान्य motherboard नीचे दिखाये motherboard की तरह दिखता है

मदरबोर्ड कितने प्रकार के होते हैं? | Types of Motherboards

आज के समय में computers और motherboards बहुत ही advance हो गए है और ये अलग-अलग जरूरत के हिसाब से बहुत प्रकार के आते है . Motherboards हमेशा से ही अपने chipset, form factor और processor socket के वजह से differentiate किये जाते है

ये बहुत पुराने model का motherboard है जिसका आज के समय न के बराबर इस्तेमाल होता है इसको IBM के द्वारा 1984 में सबसे पहले launch किया गया था

12×13.8 इँच का ये motherboard जिसका की इस्तेमाल अब नहीं किया जाता को 1984 में launch किया था. ये outdated हो चूका है और इसको अब शायद ही कोई इस्तेमाल करता है

ये भी एक पुराना तरह का motherboard है जिसका की अब न के बराबर इस्तेमाल किया जाता है. इस motherboard को IBM के द्वारा 1985 में launch किया गया था. ये अब इस्तेमाल में नहीं लिया जाता

ATX की full form होती है advanced technology extended, इसको 1995 में intel के द्वारा launch किया गया था इसके बाद इसमें समय के साथ बहुत बदलाव किये गए. इसका साइज़ आम तौर पर होता है 305 x 244 mm. इस motherboard को baby AT से design किया गया है. Baby AT motherboard इतने छोटे थे और motherboard पर components का design placement इतना बुरा था की उमसे processor से निकलने वाली heat बाकी components पर जाती थी. ATX में इसको सुधार गया और motherboard पर CPU की location को increase किया गया. इसके अलावा ATX में और भी बदलाव किये गए. इसके अलावा ATX motherboard का एक और variation भी आता है mini ATX जो इसी motherboard का mini version होता है बस छोटा होता है. ATX Motherboard Size – 12×13 inch, Mini ATX size – 11.2x 8.2. इस motherboard का आज के समय बहुत इस्तेमाल किया जाता है खास कर desktop computers में इस motherboard technology के और भी variation को develop किया जा चूका है. जो की है Mini ITX, nano ITX और Pico ITX

DTX motherboard एक छोटा motherboard होता है इसको AMD के द्वारा develop किया गया था 2007 में. और ये बेहद छोटे computer systems में इस्तेमाल किया जाता है जैसे की home theatre pc. DTX का एक mini-DTX version भी आता है DTX का size 8.0 x 9.6 होता है वही mini DTX आपको 8.0 x 6.7 इंच का देखने को मिल जायेगा

Balanced technology extended या BTX को intel ने 2003 में ATX motherboard के replacement के तौर पर पेश किया था. ये ATX बेहतर features provide करता था हलांकि 2006 में intel ने अधिकारिक बयान जारी किया को वो BTX motherboard को और अधिक develop नहीं करेंगे

low profile extension boards में आपको output और input ports backside में देखने को मिलेंगे. इसके अलावा इन motherboard में riser card को भी डाला गया. LPX motherboard आने के बाद AT motherboard में भी LPX जैसे features के साथ design को और update किये गया. हलांकि LPX motherboard थोड़ी low quality के थे और इन में AGP slot नहीं था और connect के लिए PCI का इस्तेमाल किया जाता था. इसकी वजह से NLX motherboard को LPX motherboard की जगह लाया गया

एक motherboard पर आपको बहुत सारे connectors, ports और expansion slots देखने को मिल जाते है. हर motherboard और पर इनकी संख्या अलग-अलग होती है. Motherboard जितना advance होगा ये संख्या उतनी अधिक होगी

ये पोस्ट भी जरुर पढ़े:

Popular motherboard manufacturer in Hindi | दुनिया में कौन-कौन सी कंपनी मदरबोर्ड बनती है

Motherboard कोई ऐसी चीज़ नहीं जो कोई भी लोकल कंपनी बना दे इसके लिए बहुत ही advance technology और knowledge की जरूरत होती है. हलांकि की अगर आपका motherboard ख़राब हो जाये तो आपको आपके शहर में बहुत से computer shops मिल जाएगी जो आपको उसको repair कर के दे देगी. हलांकि वो भी कुछ हद तक ही motherboard को repair कर पायेंगे

तो चलिए जान लेते है की motherboard कौन-कौन सी कंपनी बनती है

मदरबोर्ड में कौन-कौन से कंपोनेंट्स होते है | Motherboard components in Hindi

जैसा की हमने आपको बताया की computer के सभी parts motherboard से ही connected रहते है इसके लिए motherboard पर बहुत ही अलग-अलग के sockets, connectors, slots, holes दिए होते है. इसके अलावा और भी बहुत से parts होते है motherboard के.

एक motherboard पर आपको CPU socket, Expansion slot, Back panel connectors, Memory slot, Heat sink, Capacitor, Inductor, Super I/O, Serial ATA connectors, RAID, Coin cell battery, USB Headers, Northbridge , Jumpers आदि देखने को मिल जायेंगे. इन सभी components के बारे में आगे विस्तार से बात करेंगे

एक motherboard पर आपको ये सब के अलावा और भी बहुत से अलग-अलग छोटे-छोटे parts देखने को मिल जाते है

मदरबोर्ड के सभी कंपोनेंट्स की जानकारी विस्तार से

Motherboard एक बहुत ही complex component है PC का तो ऐसे में motherboard खरीदते समय आपको ये चीज़ें एक motherboard के बारे में पता होनी चाहिए. जिस से की आप सही motherboard का चुनाव कर पाए. चलिए जान लेते है motherboard से जुटी कुछ शब्दावली या motherboard के components के नाम जो motherboard का चुनाव करते समय आपको पता होनी चाहिए

Form factor का इस्तेमाल motherboard के dimension और layout को बताने के लिए किया जाता है. PC के cabinet अलग-अलग size के आते है छोटे से बड़े. आप motherboard खरीदने से पहले आपने cabinet के size के अनुसार motherboard के size को check कर सकते है की कौन सा motherboard आपके cabinet के size को support करता है. ऐसा करने में form factor आपकी मदद करता है.

अगर आप mini tower cabinet का इस्तेमाल कर रहे है तो ऐसे में micro ATX या Mini ITX motherboard ले सकते है

I/O shield rectangular metal की plate होती है जो की pc cabinet के back side में आपको देखने को मिल जाएगी. ये shield आपको motherboard के साथ में मिलती है और इसको आपको आपके pc cabinet के पीछे लगाना होता है. इसका outer size तो standard होता है लेकिन अन्दर की कटाई motherboard के हिसाब से होती है. इसका काम होता है आपके motherboard को safety provide करना ये. Safety shield को आपको motherboard लगाने के बाद pc cabinet के पीछे लगाना होता है. ऐसा करने से जब आप motherboard में backside से कुछ connect करेंगे तो ये आपका हाथ या connectors को motherboard से hit होने से बचाएगी. इस sheet में cutout होते है. जिसमें से सिर्फ connectors ही accessible होते है rest of motherboard को ये shield ढक लेती है और safety प्रदान करती है

BIOS एक firmware होता है जो आपके pc को operating system के बहार से manage करता है. BIOS motherboard में एक dedicated chip में store किया हुआ रहता है.

UEFI (unified extensible firmware interface old bios का latest version है

UEFI एक तरह से mini operating system है जिसको की आप mouse से भी navigate कर सकते हो. तो जब आप motherboard ले तो check करें की उसमे old BIOS है या UEFI install किया हुआ है. अगर UEFI तो अच्छी बात है नहीं तो आप old BIOS वाला motherboard भी ले सकते है

CPU socket motherboard की सबसे main जगह है जहां पर CPU को लगाया जाता है. हर motherboard में अलग तरह का socket होता है. आपको आपके processor के हिसाब से motherboard का चुनाव करना है. क्यु की हर motherboard और CPU compatible नहीं होते. Motherboard लेने से पहले जान ले की आपका processor कौन से socket में fit होगा उसी के आधार पर motherboard ख़रीदे

Motherboard के CPU socket में ही CPU को फिट किया जाता है

Intel के processor के लिए अलग motherboard आते है वही AMD के processor के लिए अलग motherboard आते है. आपको compatibility check कर के ही motherboard को खरीदना है

ये पोस्ट भी पढ़े:

Chipset silicon backbone होती है motherboard की. जिसको की motherboard के अन्दर integrate किया जाता है. इसी की मदद से CPU का बाकी components के साथ communication संभव हो पाता है. Chipset एक hub की तरह behave करता है जिसकी मदद से PCIe lanes, external ports, storage device, USB slots आदि को control करना संभव हो पता है

आज कल जो advance chipset आ रहे है उन में बहुत से features आपको देखने को मिल जाते है जैसे की WIFI, onboard audio, Bluetooth, overclocking etc

Motherboard की भी आपको series देखने को मिल जाएगी

Dual in line memory module या DIMM slots की मदद से आप motherboard में ram को fit कर सकते है. DIMM slot आपको 2,4 या 8 देखने को मिल जायेंगे. वैसे आज के समय आपको DDR 4 ram slot ही देखने को मिलेगा. इस पहले DDR 3 ram slot आता था कुछ motherboard में आपको अभी भी DDR3 ram का slot देखने को मिल सकता है जिसको की आपको नहीं लेना है. क्यु की ये काफी old हो चूका है और future में आपको ram update या change करने में मुश्किल आ सकती है

इस feature के होते motherboard में दो graphics cards लगाये जा सकते है. यहाँ SLI का full form होता है scalable link interface जो NVidia GeForce graphics card के साथ काम करता है. जबकि crossfireX जो है वो AMD के Radeon के नाम से आने वाले graphics cards के साथ काम करता है. आपको motherboard लेते समय इसको भी check करना है.

motherboard पर ये वो जगह होती है जहां पर pc cabinet से आने वाली wires को लगाया जाता है जैसे की case power cable और reset button cable इसके अलावा hardisk activity और power-on led cable को भी यही लगाया जाता है. Asus में इस area को q-connector के नाम से जाना जाता है

इसके अलावा motherboard चाहे basic हो या advanced आपको USB headers देखने को जरूर मिलेंगे. ये आज के समय में तीन प्रकार के आ रहे है, USB 2.0, 3.0 & USB 3.1.

इन में से latest और fast speed जो provide करता है वो है USB 3.0 & USB 3.1.

आप motherboard को pc cabinet के साथ आने वाले usb slot के साथ match कर सकते है. Latest कुछ motherboards USB 3.1 को support करते है लेकिन वैसे ही कुछ ही PC cabinets USB 3.1 को support करते है. सभी PC cabinets USB 3.1 को support नहीं करते है

तो ऐसे में कोई mis match न हो और दोनों in compatible न हो इसके जाँच आपको शुरु वात में ही करनी होगी

SATA term का इस्तेमाल उन cables और connections के लिए किया जाता है जो इस standard का इस्तेमाल करते है. इसको सबसे पहले 2001 में release किया गया था. motherboard पर इसके ज़रिये ही hardisk को mother board के साथ connect किया जाता है. Serial ATA से पहले parallel ATA आता था. Serial ATA की full form है serial advanced technology attachment

सभी pc cabinets में headphone और microphone लगाने की जगह होती है. और लगभग सभी mother board में आपको AAFP/HD audio socket देखने को मिल जाएगी यहाँ पर आपके cabinet से आ रही audio और microphone connect cables को जोड़ना होता है

ये एक standard connector है जो आपको सभी motherboard में ऐसा का ऐसा ही मिलेगा. इसका इस्तेमाल power supply से motherboard को connect करने के लिए किया जाता है.

mosfets और capacitor ये motherboard के ऊपर लगे होते है. MOSFET की full form यहाँ पर metal oxide semiconductor field effect transistor होती है. ये transistor होते है जो की motherboard के ऊपर लगे होते है और voltage regulation में मदद करते है

इसके अलावा आपको motherboard पर capacitor भी देखने को मिल जाते है जिसका काम electrical charge को संभालना होता है

chassis fan को connect करने के लिए motherboard पर आपको ये मिलेगा. ये connectors न सिर्फ fan को power supply करते है. साथ ही fan को control भी करते है. CPU और PC के temperature के हिसाब से.

इस connector की कुछ pins 12 volt का current भेजती है तो कुछ pins fans को control signals भेजती है. जिससे fan जरूरत के हिसाब से तेज़ और धीरे चलता रहता है.

अगर pc का temperature बढ़ रहा है तो motherboard fan speed को भी तेज़ कर देता है. यहाँ PWM का मतलब pulse width modulation होता है

आपको motherboard ख़रीदे समय ये देखना की जो motherboard आप ले रहे है क्या उसके ऊपर sufficient इस तरह के connectors है जो आपके case के सभी fans को accommodate कर सके हलांकि high end motherboard में तो आपको ये मिल ही जायेंगे. पर अगर आप low end motherboard ले रहे है तो आप इसको जरूर check करें

ये feature बिलकुल latest है और अभी कुछ सालो से ही आने लगा है. RGB mood light जो की आज कल के PC में लगी आती है उसको power देने और control करने के लिए आती है. RGB headers four pins का इस्तेमाल करते है वही RGBW five pins का. ये pins case fan headers की तरह ही होती है. और mood lighting को control करने में मदद करती है

debug light का ये feature आपको premium motherboard पर ही देखने को मिलेगा ये error code दिखता है अगर आप का pc boot नहीं कर रहा तो उस case में. इसकी मदद से आप समझ सकते है की pc में क्या problem आ रही है. क्यु की ये अलग-अलग error code दिखता है. जिसको देख कर आप error का अंदाजा लगा सकते

complementary metal oxide semiconductor या CMOS motherboard पर थोड़ी से memory होती है जिसके अंदर BIOS और उसकी setting होती है. इसके अलावा system की clock भी यही से चलती है

ये motherboard पर expansion slot होते है जहां पर video या graphics card को लगाया जाता है

ऊपर बताये कुछ features आपको motherboard में मिल जाते है हलांकि ये सभी हर motherboard में नहीं आते. खास कर की basic या entry level motherboard में. तो ऐसे में अगर आपको कोई feature चाहिए तो आप जरूरत के हिसाब से motherboard का चुनाव कर सकते है. और motherboard लेने से पहले उसको इन features के लिए जाँच सकते है

Functions of motherboard in Hindi | मदरबोर्ड के कार्य

वैसे तो power main switch से power supply में आती है लेकिन उसके बाद motherboard ही जो other PC components के बीच में बिलकुल सही मात्र में power को distribute करता है. Motherboard भी sensitive होता है उसका ख्याल power supply रखती है और बाकी के component भी बहुत power sensitive होते है. और proper supply के बिना ख़राब हो सकते है. तो ऐसे में motherboard ये make sure रखता है की सब को proper power मिले

BIOS का डाटा motherboard में ही store रहता है कोई भी computer को boot होने के लिए BIOS की जरूरत होती है. BIOS motherboard की read only memory में रहता है तो ऐसे में हम कहा सकते है की एक pc motherboard की सहायता से ही start या boot होता है

motherboard के ज़रिये ही computer के सारे components connected होते है. कोई भी communication motherboard के ज़रिये ही computer components के बीच होती है. तो ऐसे में ये communication hub की तरह act करता है

किसी भी computer का motherboard backbone की तरह काम करता है. सारे component Motherboard के ऊपर या उनके connectors motherboard के ऊपर ही लगाये जाते है

PCE slot आपको motherboard के ऊपर ही देखने को मिलता है जिसके ज़रिये आप expansion कर सकते. यहाँ पर आप graphics या video card लगा सकते है. इसके अलावा wifi, Bluetooth भी आज कल motherboard में inbuilt आने लगे है. नहीं तो आप इनके cards भी motherboard में लगा सकते है. इसके अलावा mouse, speaker, keyboard के connectors को भी आपको motherboard में ही जोड़ना होता है

अकसर पूछे जाने वाले सवाल | Frequently asked questions

Tower PC के case में motherboard जो है वो आपको cabinet के अन्दर देखने को मिलता है और computer के सभी parts या तो इसके ऊपर mounted होते है या wires के through motherboard से connect किये जाता है. इसके अलावा external peripherals भी cabinet के backside में back panel connector में जो की motherboard का हिस्सा ही होता है. उस पर connect किये जाते है

IMEI नंबर जो होता है वो कुछ-कुछ serial नंबर की तरह होता है ये unique होता है और hard device से link किया होता है IMEI नंबर EFS में store किया होता है और EFS जो होता है वो motherboard में होता है. ऐसे में जब आप motherboard को change करेंगे को आपका mobile का IMEI नंबर भी change हो जायेगा

वैसे तो Motherboard पर बहुत से components और parts होते है पर main basic components होते है वो होते है processor और memory. Motherboard किसी भी computer system का main और basic component होता है. जिसको main board और system board भी कहते है. Motherboard के खुद के ऊपर भी बहुत से जैसे components लगते है जैसे की processor socket, chipset, disk connectors, back panel connectors, front panel connectors, memory slots, CMOS battery, BIOS, expansion slot, form factor ये सभी उपकरण का प्रयोग कर के motherboard को बनाया जाता है. इसके अलावा भी components होते है आप नीचे चित्र में देख सकते है

एक computer system में लगभग सभी device motherboard से जुडी होती है

Monitor, keyboard, mouse और flash drive जो होती है वो default में motherboard से नहीं जुडी होती. लेकिन इनको भी बाद में जोड़ना ही पड़ता है motherboard में. तो ऐसे में हम कहा सकते है की सभी devices एक computer system में motherboard से जुडी होती है

Motherboard के components के बीच में information buses के ज़रिये travel करती है

Buses जो होते है वो circuits होते है जो की motherboard के ऊपर CPU को दुसरे component के साथ जोड़ते है. एक motherboard पर बहुत से buses होते है इनकी speed megahertz में नापी जाती है. एक bus जो होती है वो instruction और डाटा को system में move करती है. Bus एक high speed internal connection है जो signal और data के भेजता और control करता है buses जो होती है वो डाटा और signal processor और दुसरे components के बीच में भेजने में मदद करती है

Motherboard का आविष्कार 80`s में हुआ था दुनिया का जो सबसे पहला motherboard था वो था planar जिसको की IBM के द्वारा बनाये गए personal computer में इस्तेमाल किया गया था

आप कोई भी CPU किसी भी motherboard पर नहीं लगा सकते. सभी motherboard अलग-अलग processor socket के साथ आते है और कोई motherboard AMD के processor को support करता है तो कोई motherboard intel के processor को support करता है

Intel और AMD दोनों ही अलग तरह की sockets का इस्तेमाल करते है तो ऐसे में intel socket वाले motherboard में आप AMD के processor को नहीं लगा पायेंगे

इसके अलावा intel के सभी processor भी एक सी socket को support नहीं करते और AMD के साथ भी ऐसा ही है तो ऐसे में motherboard खरीदते समय check कर ले की motherboard आपके processor को support करता है की नहीं

वैसे तो motherboard को सब से ज्यादा motherboard ही कहा जाता है लेकिन फिर भी इसके दुसरे नाम भी प्रचलित है और कुछ लोग motherboard को mainboard, MB, baseboard, main circuit board, MOBO, backplane board, logic board, system board के नाम से भी पुकारते है

Motherboard बहुत सी electronics devices में पाया जाता है लेकिन एक computer का motherboard सबसे शक्तिशाली होता है एक motherboard जो होता है वो किसी भी computer की backbone होता है. Motherboard की मदद से computer के सभी components को एक साथ लगाया जा सकता है. Components के लिए ये foundation का काम करता है. इसके अलावा motherboard के कारण ही ये components आपस में communicate कर पाते है.

ऐसा इसलिए होता है ताकि ये identify करने में आसानी रहे की कौन सी wire और components को कहा connect करना है. इसके अलावा ये slot, connectors और ports को भी identify करने में मदद करता है

जी नहीं कंप्यूटर में father board नाम की कोई भी चीज़ नहीं होती है. Father board तो नहीं होता लेकिन daughterboard नाम से एक board जरुर होता है

Motherboard के ऊपर दुसरे boards भी लगाये जाते है. जिनको की main board का children consider किया जाता है. बस इसी कारण से main board को motherboard के नाम से जाना जाने लगा

सभी devices में circuit board होता है हलाकि जितने भी smart devices जैसे की laptop, tablet और smartphone होते है उन में आपको motherboard जरुर देखने को मिलेगा

हलाकि सभी devices में same size का motherboard नहीं होता. जैसे की smart phone जैसी device में आपको बहुत छोटे size का motherboard देखने को मिलेगा जिसके ऊपर सभी components जैसे की प्रोसेसर, रैम, GPU आदि पहले से ही soldered किये मिलेगे

Smart phone में जो motherboard होता है उस में आपको Slots और sockets नहीं मिलेगे. और नहीं ही आपको वह पर upgrade करने के options मिलेगे

Motherboard जो होते है वो basics से advance आते है. इसके अलावा अलग-अलग कई कंपनी के motherboard आते है. तो ऐसे में motherboard पर कितने slots, ports और connection point होगे इसका कोई standard fix नहीं है. ये सभी motherboard पर अलग-अलग होते है.

अगर आप आपके motherboard के slots, ports और connection points के बारे में जानना चाहते है तो इसके लिए आप आपके motherboard के साथ आने वाले manual को read कर सकते है. इसके अलावा motherboard के manual का PDF version भी ऑनलाइन manufacturer की website पर उपलब्ध रहता है जिसको की आप download कर के पढ़ सकते है

तो आशा करते है मदरबोर्ड क्या है ये आप समझ गए होगे अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो आप हमसे comment section में जरूर पूछे

मैं एक ब्लॉगर व इस ब्लॉग का संस्थापक हु यहाँ इस ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी लिखता हूं. टेक्नोलॉजी, ब्लॉग्गिंग व ऑनलाइन पैसा कैसे कमाए आदि विषयों पर मै लिखता हु आप चाहे तो मुझे social media पर follow कर सकते हो
Facebook | Instagram

Spread the love
Exit mobile version