MS-DOS क्या है MS DOS की पूरी जानकारी | MS DOS kya hai |

MS-DOS kya hai | what is MS-DOS in Hindi

तो चलिए जान लेते है की MS DOS kya hai

MS-DOS एक operating system है जिसे Microsoft disk operating system के नाम से भी जाना जाता है

ये operating system है x86-based personal computers के लिए जिनको की Microsoft के द्वारा develop किया गया है

1980`s में मुख्य तौर पर इसी operating system को personal computer में main operating system की तरह इस्तेमाल किया जाता था

ये वो operating system था जिसकी वजह से Microsoft software industry में इतना बड़ा नाम बना

MS-DOS को Timothy Paterson जो की Seattle computer products के लिए काम करते थे ने intel corporation के लिए ये operating system को बनाया था. इसको 1980`s में लिखा गया और शुरुवात में इसे QDOS ( quick and dirty operating system) कहते थे. इसके बाद इसका नाम बदल कर 86-DOS कर दिया गया

इस system को बाद में Microsoft ने खरीद लिया और इसका नाम बदल कर MS-DOS कर दिया और इस software को IBM उनके IBM PC के लिए बेच दिया

Microsoft disk operating system या MS-DOS एक non-graphical command line operating system है

इस operating system को Last बार 1994 में update किया गया था. MS-DOS की मदद से user किसी भी file को navigate, open, manipulate कर सकता है. command lines की मदद से इस operating system में ऐसा किया जा सकता है . आज के समय में MS-DOS का इस्तेमाल नहीं के बराबर होता है

ज़्यादातर computer users ये नहीं जानते की वो MS-DOS की मदद से भी Microsoft windows को navigate कर सकते है. जैसे की आप windows पर mouse की मदद से navigate करते है वैसे ही MS dos की मदद से भी कर सकते है. जैसे अगर आप किसी folder की files को देखना चाहते है तो उसके लिए आप MS-DOS में CD command का इस्तेमाल कर सकते है

ये पोस्ट भी जरुर पढ़े:

MS DOS full form in English

MS-DOS की full form होती है – Microsoft disk operating system

Features of MS-DOS in Hindi

  • ये एक free operating system है
  • ये एक 16- bit operating system है
  • इसको install करने के लिए अधिकतम 2 GB space की जरूरत होती है
  • ये operating system text based interface provide करता है इसको आप text और codes के ज़रिये operate कर सकते है
  • इसकी मदद से आप file management जैसे की file creation, deletion या editing बहुत आराम से कर सकते है
  • इस operating system को आप system command से operate कर सकते हो
  • MS-DOS में आपको graphical interface देखने को नहीं मिलेगा तो ऐसे में आप इसको mouse से operate नहीं कर सकते

MS-DOS advantages in Hindi | MS dos के फायदे

  • अगर आप MS-DOS का इस्तेमाल कर रहे है तो आप सीधे BIOS को access कर सकते है
  • ये एक काफी light operating system होता है
  • ये windows की तुलना में बहुत अधिक जल्दी शुरू हो जाता है इसको आप छोटे system में भी चला सकते हो

MS-DOS के disadvantages | MS-DOS के नुकसान क्या है

  • ये operating system automatic IRQ ordering को support नहीं करता है
  • 640 MB से अधिक ram को सँभालने में MS-DOS में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है
  • ये operating system multi-tasking को support नहीं करता है

Windows में DOS mode क्या होता है

Windows ३.० और windows 95 आपने user को windows से exit कर completely MS-DOS पर चलाना allow करती थी. ये option इस लिया दिया जाता था की ताकि user पहले जो MS-DOS के लिए programs बने थे उनको चला सके. आज के समय में windows graphical user interface provide करती है जिसके ज़रिये कंप्यूटर को operate करना बहुत आसान हो जाता है हलांकि windows के सभी versions में आपको windows command line देखने को मिल जायेगा. आप कंप्यूटर को command line के ज़रिये भी navigate कर सकते है.

आपको MS-DOS mode में windows को चलने के लिए कंप्यूटर को boot करते समय dos mode को select करना होगा

MS-DOS को क्यों बनाया गया

1981 में IBM ने Microsoft को 16 bit operating software के लिए कहा बस यही से MS-DOS की नींव पड़ी. जब IBM ने इस software की demand रखी तब ऐसा कोई भी software Microsoft के पास नहीं था. इसके अलावा Microsoft ऐसा कोई software बनाना भी नहीं चाहता था. तब उसने किसी और से ये software ख़रीदा और थोडा बहुत बदलाव करके IBM को royalty bases पर बेच दिया बस इसी तरह MS-DOS का जनम हुआ

MS-DOS versions in Hindi | versions of MS-DOS

  • IBM PC DOS 1.0
  • DR-DOS 1988
  • ROM-DOS 1989
  • PTS DOS 1993
  • Free-DOS 1998

MS-DOS एक single user और single task operating system है personal computers के लिए

MS-DOS commands in Hindi | MS-DOS की commands Hindi में

हम आपको यहाँ MS-DOS की कुछ commands बताने जा रहे है जिनको की आप अभी भी windows operating system के साथ आने वाले command line पर प्रयोग कर सकते है

  • Copy: एक directory से दूसरी directory में फाइल कॉपी करने के लिए आप इस command का इस्तेमाल कर सकते है
  • CD *path: path को specify करता है जिसके द्वारा operating system executable फाइल को search करता हैं
  • Copy con: .bat extension वाली फाइल को create करता है
  • Time: इसकी मदद से आप internal clock time change कर सकते है
  • VOL: इस command को देने से hardrive का volume और label show हो जाता है
  • RENAME: इस command के ज़रिये आप files और directory का नाम change कर सकते
  • RMDIR: इस command के ज़रिये है directory को delete किया जा सकता है
  • SEE: operating system का version देखने के लिए
  • MEM: इस command के ज़रिये आप ram कितनी है और कितनी used और free है देख सकते है
  • CLS: screen पर दिख रही सभी commands को clear कर देता है
  • FOR: इस command के ज़रिये आप किसी भी command को repeat कर सकते है

ऊपर बताई command के अलावा और भी बहुत सी command होती है MS-DOS में जिसके ज़रिये आप MS-DOS operating system को operate कर सकते है. या कहे command दे सकते है

MS-DOS एक single user और single task operating system होता है. MS-DOS के अंदर आपको five basic elements देखने को मिलेंगे जिनकी मदद से process को control और deploy किया जाता है

  • MSDOS.SYS – ये MS DOS का kernel होता है जिसमें की diskettes checking से जुडी instructions होती है. ये ही files, directories, media और memory को manage करने में मदद करता है
  • ROM-BIOS – ये input output management प्रोग्राम होता है जो की operating system और computer device के बीच में काम करता है
  • DBLSPACE.BIN- ये kernel controller होता है hard disk compressor का इस की मदद से storage capacity increase की जा सकती है . ये compression और decompression perform करता है
  • IO.SYS – ये series of instructions होती है जिसकी मदद से input और output को transfer किया जाता है peripherals से memory में
  • COMMAND.COM – ये वो written commands होती है जिनकी मदद से कंप्यूटर से communicate किया जाता है

MS-DOS amazing facts in Hindi | MS-DOS के बारे में कुछ रोचक तथ्य

  • Q-DOS को bill gates ने $50000 में ख़रीदा था और इसका नाम बदल कर MS-DOS कर दिया था. इसके बाद उन्होंने इसको IBM को बेच दिया था बदले में उनसे 3$ royalty per computer चार्ज की थी
  • Brain नाम का first computer virus था जो की MS-DOS के लिए design किया गया था इसको पाकिस्तान के दो भाइयों ने 1986 में लिखा था
  • MS-DOS को किसी और company से ख़रीदा गया था पहले इसका नाम QDOS था जहां QDOS का मतलब था quick and dirty operating system
  • MS-DOS के source code में बहुत से jokes और F-bombs आपको देखने को मिल जायेंगे
  • आज भी आपको archive.org पर 2000 से ज्यादा MS-DOS based games देखने को मिल जायेंगे जिनको आप अपने web browser पर आराम से खेल सकते है

Conclusion

Windows की आ जाने के बाद इसको as a operating system कोई भी इस्तेमाल नहीं करता. ये पूरी तरह से free operating system है. ये Microsoft का operating system है तो ऐसे में इस operating system पर trust करना आसान हो जाता है. Windows में आज भी ये मौजूद है command line के नाम से जिसे आप चाहे तो देख सकते है और जान सकते है की पुराने समय में operating system कैसे हुआ करते थे

आशा करते है हमारे इस लेख से आप MS-DOS के बारे में बहुत कुछ जान पाए होगे

dtt logo

ये लेख devtechtips.com की संपादकीय टीम के द्वारा लिखा गया है आप चाहे तो हमारे ब्लॉग को सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है
Facebook | Instagram | Telegram

Spread the love

Leave a Comment