Virtual ram kya hai | वर्चुअल रैम कैसे काम करती है

Virtual ram kya hai

आज के समय में फ़ोन में virtual ram का feature आ रहा है. इस feature की मदद से आप फ़ोन की performance increase कर सकते है.

Desktop pc या laptop में windows में ऐसा feature बहुत समय से है जिसका इस्तेमाल करके हम PC की रैम को बढ़ा सकते है

Virtual memory जो होती है वो virtual होती है. Virtual ram को आप बिना नयी रैम ख़रीदे ही बढ़ा सकते है

Virtual ram feature के ज़रिये आप temporary memory को बढ़ा सकते है. ऐसा आप internal flash storage से resources ले कर सकते है

Internal storage का space आप ram के लिए allocate कर सकते है

Virtual ram को extended ram या dynamic ram expansion के नाम से भी जाना जाता है. ये तीनों एक ही feature है

आज के समय में इसी नाम से ये feature phones में दिया जाता है

ये पोस्ट भी पढ़े:

Physical ram क्या है | what is physical ram in Hindi

Physical ram जो होती है वो device में primary memory होती है. ये volatile होती है जिसको की power की लगातार जरूरत होती है ताकि ये data को retain कर सके .

Physical ram को आप touch कर सकते है ये एक hardware item है वही virtual ram virtually create की जाती है और इसको आप touch नहीं कर सकते

Physical ram जो है वो device के motherboard पर लगी होती है

वर्चुअल रैम कैसे काम करती है | how does virtual ram works

Virtual ram जो है वो एक तरह से secondary ram है जिसको internal storage का इस्तेमाल करके create किया जाता है. Harddisk या internal flash memory का कुछ हिस्सा virtual ram को allocate कर दिया जाता है

Virtual ram को operating system की मदद से create किया जाता है

Virtual ram होने पर memory management थोड़ी better हो जाती है. आज के समय में apps और games size में बड़े होते जा रहे है ऐसे में अगर आपके फ़ोन में virtual रैम है तो आप ज्यादा से ज्यादा apps को खोल के रख सकते है

Virtual ram multitasking में मदद करती है

अगर आप फ़ोन में multitasking करते है तो ऐसे में आपको कई apps को खोल के रखना पड़ता है. Virtual ram की support होने पर आप ऐसा आराम से कर सकते है

ये वाकई में काम करती है और कोई gimmick नहीं है

लेकिन अगर किसी फ़ोन में 8GB physical रैम है तो वो उस फ़ोन से बेहतर perform करेगा जिस फ़ोन में 4GB physical + 4 GB virtual ram है

Virtual ram के साथ आप major performance improvement नहीं देखेगे. लेकिन फिर भी कुछ performance boost तो होता ही है

Virtual ram आपके फ़ोन की memory management को बेहतर बना देती है

ये पोस्ट भी पढ़े

Advantages of virtual ram Hindi | वर्चुअल रैम के फायदे

  • Virtual ram होने से आपके फ़ोन की performance increase होती है
  • आप एक साथ ज्यादा application का इस्तेमाल कर सकते है
  • Virtual ram एक inexpensive तरीका है device में ram को बढ़ने का
  • Virtual ram activate कर आप device में और अधिक multitasking कर सकते है

Disadvantages of virtual ram Hindi | वर्चुअल रैम के नुकसान

  • इसके कारण आपकी hard disk का space कम हो जाता है वही अगर hard disk ही आपके mobile की कम capacity की है तो virtual ram का feature संभव नहीं. क्यु की virtual ram बनाने के लिए इसको harddisk या internal flash drive का कुछ हिस्सा allocate करना पड़ता है. लेकिन अगर internal memory में ही space कम है तो virtual ram के लिए space allocate करना मुश्किल हो सकता है
  • जो application virtual ram पर चलती है वो physical ram की तुलना में थोड़ी slow चलती है

Virtual ram vs physical ram in Hindi | वर्चुअल रैम vs फिजिकल रैम

  • Physical ram expensive होती है वही वर्चुअल रैम inexpensive होती है. अगर mobile OS में virtual ram का feature है तो आप OS से ही internal flash memory में virtual ram को create कर सकते है
  • जरूरत पड़ने पर physical ram का device पहले उपयोग करता है जब physical ram कम पड़ने लगती है तो उसके बाद अगर virtual ram available है तो उसका इस्तेमाल किया जाता है
  • Virtual ram की तुलना में physical ram fast काम करती है. Virtual ram basically एक memory management technique है
  • Ram जो है वो swapping technique का इस्तेमाल करती है वही virtual memory जो है वो paging इस इस्तेमाल करती है
  • Physical ram जो होती है वो chip की capacity तक ही समिति होती है जिसको upgrade करने के लिए आपको नयी high-capacity ram खरीदनी पड़ती है. वही जो virtual ram है वो आप hard disk के size के हिसाब से increase कर सकते है. Virtual ram की setting को आप operating system से control कर सकते है
  • Physical ram जो है वो actual ram होती है वही virtual ram सिर्फ एक memory management technique होती है
  • Physical ram जो है वो CPU को access कर सकती है वही virtual ram CPU को access नहीं कर सकती है

आशा करते है की virtual ram kya hai ये आप जान गए होगे अगर आपके मन में virtual ram को लेकर कोई सवाल है तो आप वो हम से comment section में पूछ सकते है

Devanshu wadhwa

मैं एक ब्लॉगर व इस ब्लॉग का संस्थापक हु यहाँ इस ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी लिखता हूं. टेक्नोलॉजी, ब्लॉग्गिंग व ऑनलाइन पैसा कैसे कमाए आदि विषयों पर मै लिखता हु आप चाहे तो मुझे social media पर follow कर सकते हो
Facebook | Instagram

Spread the love

Leave a Comment