Firewall kya hai पूरी जानकारी | what is firewall in Hindi

Contents hide

फ़ायरवॉल क्या है | Firewall kya hai | what is firewall in Hindi

Firewall network security device या एक software होती है जो की network पर आने और जाने वाले traffic को लगातार monitor करती रहती है और ऐसे करने के दौरान firewall data packets को allow/permit या block करती है

Firewall ऐसा preset security rules के मुताबिक करती है. Firewall blocking को आप automatic या manual mode पर रख सकते है

Firewall internal network और incoming traffic या कहे internet के बीच में दीवार की तरह होती है जो device को viruses और hackers से बचाती है. Firewall लगे होने से कोई भी आपकी device को आपकी knowledge के बिना remote access नहीं कर सकता

फ़ायरवॉल कैसे काम करती है | How firewall works in Hindi

एक firewall incoming traffic को analyze करती है और pre-established rules के मुताबिक traffic को filter करती है. ऐसा करके वो network या device को unsecured और suspicious attacks से बचाती है

एक जो firewall होती है वो computer को bad traffic से computer के entry point पर guard करती है

firewall computer ports पर सुरक्षा प्रदान करती है जो की computer के entry points होते है

Firewall एक barrier का काम करती है. Firewall ये barrier internal network और public network के बीच create करती है

Firewall सिर्फ non-threatening traffic को ही internal network पर allow करती है

तो basically firewall एक wall की तरह होती है जो आपके network में hackers को घुसने से रोकती है. hacking के अलावा भी internet पर बहुत से threats हो सकते है जो आपको नुकसान पहुंचा सकते है एक firewall आपको ऐसे खतरों से बचाती है

ये पोस्ट भी जरुर पढ़े:

फ़ायरवॉल का इतिहास | History of firewall in Hindi

Firewalls का आगमन late 1980`s में हुआ था और ये packet filter की तरह काम करती थी firewall में ये feature आज भी आता है लेकिन समय के साथ इसके अलावा और भी बहुत से additional features firewall के साथ जुड़ते गए

आज के समय में जो firewall का इस्तेमाल किया जाता है वो काफी advance होती है और आज internet पर जो भी threats है उनको रोकने में सक्षम है

फ़ायरवॉल के प्रकार | Types of firewalls in Hindi

Firewall कई प्रकार की होती है तो चलिए जानते है की firewall कितनी प्रकार की होती है

  • Proxy firewall

शुरु वात में इसी प्रकार की firewall आई थी इस तरह की firewall का सबसे प्रमुख feature ये था की ये रोकती है बाहरी network से direct connection को. इस तरह की firewall किसी खास application के लिए gateway की तरह काम करती थी एक network से दूसरे network तक

  • Circuit level gateways

ये firewall Transmission control protocol को check करती है और insure करती है की जो भी packets आ रहे है वो legitimate हो

  • Packet filtering firewalls

ये most basic type of firewall है और barrier router के अंदर ये firewall application create कर सकती है. ये firewall सिर्फ आने वाले और जाने वाले IP address को check करती है और इस तरह की firewall packet details को नहीं जांचती. शुरुवाती दौर में इसी तरह की firewall को इस्तेमाल में लाया जाता था

  • Next-generation firewalls

आज के समय में internet पर बहुत से तरह के attack और virus का खतरा रहता है तो ऐसे में firewall भी ऐसी चाहिए जो आज के समय के हिसाब से काम करें. Next generation firewalls बहुत ही उच्च level की सुरक्षा प्रदान करती है और companies आज कल ऐसी ही firewall का इस्तेमाल करना पसंद कर रही है.

  • Stateful inspection firewall

इस तरह की firewall Circuit level gateways और Packet filtering firewalls के features को मिला कर बनी है.

  • Software firewall

software firewall को किसी भी computer या मोबाइल device पर install किया जा सकता है. ऐसी ही एक firewall है zone alarm जिसको आप किसी भी मोबाइल या computer पर install कर सकते हो. वैसे windows के साथ भी inbuilt firewall आती है अगर आप software firewall को install करना चाहते है तो इसके लिए आपको inbuilt firewall को off करना होगा

  • Hardware firewall

hardware firewall को device से पहले लगाया जाता है जिस से की ये data packets को filter कर सके. इस तरह की physical hardware firewall एक साथ कई devices को protection देती है

फ़ायरवॉल लगाने के फायदे व नुक्सान | Advantage and Disadvantage of firewall in Hindi

Firewall को लगाने के फायदे भी है और नुकसान भी दोनों के बारे में ही बात करेंगे

फ़ायरवॉल लगाने के फायदे | Firewall advantages in Hindi

  • Firewall data को leak होने से बचने में मदद करता है
  • Devices को hackers से बचाता है और कोई भी आपकी device को remotely access without आपकी permission नहीं कर सकता
  • Device को trojans और keylogger से बचाता है
  • एक ही network based Firewall का इस्तेमाल करके आप network पर मौजूद सभी devices को security प्रदान कर सकते है
  • बेहतर privacy और security provide करता है

फ़ायरवॉल लगाने के नुकसान | Firewall disadvantages in Hindi

  • Firewall maintenance और configuration व monitoring के लिए आपको expert की जरूरत पड़ सकती है वही in software firewall की बात करें तो वो install और use करनी बेहद आसान है
  • Firewall आपको security तो देती ही है हलांकि वो आपको हर खतरे से नहीं बचाती firewall के साथ आपको anti-malware और antivirus का इस्तेमाल करने की आवशकता पड़ सकती है
  • Firewall installation के लिए आपको extra खर्च करना पड़ सकता है हलकी personal computer के लिए zone alarm जैसी free firewall उपलब्ध है जो इस्तेमाल करने में बेहद आसान है
  • Firewall का इस्तेमाल करने से performance पर कुछ असर पड़ता है क्यु की firewall के द्वारा हर packet को verify व authenticate किया जाता है inner network में भेजने से पहले.

ये पोस्ट भी जरुर पढ़े:

फ़ायरवॉल के कार्य | functions of firewall in Hindi

Firewall का मुख्य कार्य packet filtering होता है इसके अलावा एक firewall application proxy या application-level gateway, deep packet inspection, management functions जैसी services भी provide करती है

एक firewall में आपको मुख्य ये features देखने को मिलेंगे

  • Deep packet inspection
  • Sandboxing
  • Web filtering
  • Internet aggregation
  • Bandwidth monitoring & control
  • VPN services

फ़ायरवॉल का इस्तेमाल | uses of a firewall in Hindi

Firewall के बहुत फायदे है और इसको कई जगह इस्तेमाल किया जा सकता है तो चलिए जान लेते है की एक firewall का क्या इस्तेमाल है और एक firewall क्या-क्या कर सकती है

  • एक firewall आपके data को leak होने से बचाती है
  • Phishing attack और ransomware से आपकी device को बचाती है
  • अगर आप firewall का इस्तेमाल करते है तो कोई भी आपकी मर्ज़ी के बिना आपके computer को remotely access नहीं कर पायेगा
  • बे फालतू का content आप इसकी मदद से block कर सकते है जैसे की pornographic content को ये block कर सकती है
  • Online gaming को safe बनती है
  • Firewall के ये features जैसे की application gateway, packet filtering, logging आपको बहुत सी मुसीबतों से बचाते है जो internet का इस्तेमाल करने से आपको आ सकती है

कंप्यूटर के लिए बेस्ट फ़ायरवॉल कौन सी है | Best firewall software for your computer in Hindi

  • Zone alarm

ये एक free firewall software है जो बहुत लम्बे समय से market में ये service दे रहा है

Zone alarm cyberattacks से सुरक्षा देती है अगर आप zone alarm को pc पर install करते है तो malware, spyware, data leak, phishing attack, ransomware जैसी समस्यों से बच सकते है

ये एक पूरी तरह से free firewall है

  • Comodo firewall

ये भी एक free firewall है इसमें भी आपको बहुत से feature मिल जाते है जैसे की custom DNS feature, virtual kiosk, ad blocker, program blocker, rating scan और भी बहुत कुछ . rating scan एक ऐसा feature है जिसकी मदद से आप computer में malware को scan कर सके है

फ़ायरवॉल कैसे काम करती है | How does firewall works in Hindi

Firewall लगातार आपके आने वाले और जाने traffic को monitor करती रहती है और good data को allow करती है. ये bad traffic को reject या block कर देती है इसके लिए ये तीन तरह के methods को अपनाती है

  • Proxy service
  • Packet filtering
  • Stateful inspection

किसी भी firewall में कुछ pre-determined set of rules होते है जिनकी मदद से एक firewall traffic को filter करती है. Packet filtering एक बहुत ही basic तरीका है जिसकी मदद से एक firewall protection प्रदान करती है. Firewall उन data packet को block कर देती है जिनको की pre-determined rules में flag या block किया गया है

Firewall proxy internet से information ले कर client device को देती है firewall application layer में firewall proxy servers’ function करते है.

जितना भी data transfer या traffic होता है वो firewall scanning के बाद ही होता है

इसके बाद आता है stateful inspection जो काफी advance firewall scanning और stateful inspection system होता है ये एक database maintain करता है. डेटाबेस में जो भी connection allow हुआ और उसके session की duration का record रखा जाता है

फ़ायरवॉल कितनी तरह की होती है | Types of firewall in Hindi

तो मुख्यता firewall दो तरह की होती है एक होती है appliance firewall दूसरी होती है client based firewall.

Client based firewall को सीधे device पर install किया जाता है जो उस device पर traffic को monitor करती है

वही जो appliance firewall होती है वो एक physical hardware device होती है. जिसको user network और outside network या कहे internet के बीच में place किया जाता है और ये एक साथ कई सारी devices को सुरक्षा प्रदान करता है

फ़ायरवॉल हैककर्स से कैसे बचाती है क्या फ़ायरवॉल को हैक कर सकते है ? | how does firewall save from hacker in Hindi

WIFI के जरिये कोई आपका PC access न कर पाए इसके लिए एक firewall hackers को block करती है. आमतौर पर hacker keylogger और trojan virus का इस्तेमाल करते है. इसके ज़रिये वो आपके PC को access कर लेते है और sensitive data को चुरा लेते है जैसे की आपकी browsing history, password, बैंकिंग details

Hackers आपको पता लगे बिना ही आपके pc को access कर लेते है और ये सब activity कर देते है लेकिन अगर आप firewall का इस्तेमाल करते है तो ऐसे होने से बच सकते है

अब दूसरा सवाल ये आता है की क्या firewall को hack किया जा सकता है

वैसे ऐसा कम होता है लेकिन अगर firewall को सही से tune न किया गया हो तो hackers उसको hack कर सकते है

इसके अलावा hacker firewall को bypass करके भी आपके computer में सेंध लगा सकता है

अगर आपका operating system updated नहीं है तो ऐसा होने की संभावना अधिक हो जाती है

इसके अलावा अगर आप कोई infected web पेज को visit करते है तो भी ऐसा हो सकता है इस लिए आपको अपने PC में हमेशा firewall के साथ एक अच्छा antivirus और antimalware को install कर के रखना चाहिए

अगर आप securely अपने PC को इस्तेमाल करना चाहते है तो उस मे firewall की बड़ी भूमिका हो सकती है. इसके लिए आपको firewall को अपनी device पर जरूर install करना चाहिए.

फ़ायरवॉल प्रॉक्सी सर्वर क्या है | what is firewall proxy server Hindi

Proxy फ़ायरवॉल जो है वो एक network security system होती है जो network पर मौजूद सभी resources को protect करती है. ऐसा ये message को application layer पर filter कर के करती है

Proxy firewall को gateway firewall या application firewall भी कहते है

इसके अलावा proxy firewall को proxy server भी कहा जाता है लेकिन सभी proxy servers जो होते है वो proxy firewall नहीं होते.

एक proxy server जो होता है वो clients और server के बीच पुल की तरह काम करता है

Proxy firewall की मदद से webpages को cache कर ट्रैफिक को filter व bandwidth demand को reduce, और virus को advance में ही detect किया जा सकता है

इसके अलावा proxy server का इस्तेमाल user की information को hide करने के लिए भी किया जाता है. इसके अलावा इसके इस्तेमाल से blocked services का भी excess किया जा सकता है

फ़ायरवॉल और एंटीवायरस में क्या अंतर होता है | firewall vs antivirus in Hindi

फ़ायरवॉल जो है वो एक तरह से router की तरह काम करता है जितने भी data packets network में आते है या network से बाहर जाते है वो firewall से हो कर ही गुज़रते है. इन data packets को firewall अच्छे से examine करती है और decide करती है की इनको allow करना है की नहीं

जितना भी traffic है वो firewall से हो कर गुज़रता है और firewall ही decide करती है उसका क्या करना है

वही अगर बात करे एंटीवायरस की तो ये एक ऐसा software होता है जो की internet से आने वाले threats जैसे virus, मैलवेयर आदि से सुरक्षा प्रदान करता है

एक antivirus तीन कार्य करता है ये threat को detect करता है, identify करता है व उसको remove करता है

  • Type of threats

Firewall जो होती है वो सिर्फ external threats के साथ ही deal करती है लेकिन antivirus external और internal दोनों threats के साथ deal करता है

  • level of application

Firewall को हार्डवेयर और software level पर लगाया जा सकता है जबकि antivirus को सिर्फ software level पर ही लगाया जा सकता है

  • working type

एक firewall जो होती है वो monitor कर के filter करती है ऐसे ही इसकी कार्य प्रणाली होती है वही antivirus जो है scanning के द्वारा infection को detect करता है व infection को उसके बाद remove करता है

  • Hacking Possibilities

IP spoofing व routing attack के ज़रिये firewall को bypass या counter attack किया जा सकता है. वही वही antivirus पर counter attacks malware removal के बाद संभव नहीं

  • Programming level

Firewall जो है वो काफी advance programming कर के बनायी जाती है वही antivirus जो है उस के लिए simple programming चाहिए होती है

  • Level of protection

Firewall एक system को सभी प्रकार के threats से बचाती है वही जो antivirus होता है वो system को antivirus और malware से बचाता है

प्रॉक्सी फ़ायरवॉल vs ट्रेडिशनल फ़ायरवॉल | Proxy firewall vs traditional firewall in Hindi

Proxy firewall जो होती है वो internal user और internet के बीच में gateway होती है. Proxy firewall को organization के network या remote server पर install किया जाता है जिसको की internal network access कर सकता है

Proxy firewall जो होती है वो internal network को security प्रदान करती है ऐसा ये traffic को monitor और block कर के करती है

वही अगर बात करे traditional firewall की ये दो networks के बीच में gateway की तरह काम करता है. Traditional firewall जो होती है वो unwanted external traffic को block कर computer और उस से जुड़े network पर attack और unauthorized attack को होने से रोकती है

Unified threat management (UTM) क्या है | what इस UTM Hindi

UTM में आपकी device/network में जब multiple security services या feature का एक साथ इस्तेमाल किया जाता है तो उस को Unified threat management या UTM कहते है

जैसे की अगर आपने device या network में antivirus, antimalware, firewall, web filtering, content filtering, anti-spam, VPN जैसी services को लगा रखा है तो इस complete protection को UTM कहेगे

UTM की मदद से devices और network protection को simplify किया जा सकता है. इसकी मदद से एक ही जगह से पुरे network की सुरक्षा की जा सकती है.

हम आशा करते है की आप ये अच्छी तरह से जान गए होगे की firewall kya hai और इसकी computer को safe रखने में क्या उपयोगिता है. अगर आपके मन में कोई सवाल हो तो आप हमसे comment section में पूछ सकते है

Devanshu wadhwa

मैं एक ब्लॉगर व इस ब्लॉग का संस्थापक हु यहाँ इस ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी लिखता हूं. टेक्नोलॉजी, ब्लॉग्गिंग व ऑनलाइन पैसा कैसे कमाए आदि विषयों पर मै लिखता हु आप चाहे तो मुझे social media पर follow कर सकते हो
Facebook | Instagram

Spread the love

Leave a Comment