Speaker kya hai स्पीकर के बारे में पूरी जानकारी

Speaker kya hai | what is speaker in Hindi

Speaker एक ऐसी device है जिनकी मदद से audio का output लिया जा सकता है.

Speaker एक hardware device होती है जिसको की computer या दूसरी sound device के साथ connect कर के sound generate किया जा सकता है

speaker को कही भी और किसी भी device के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है. जैसे की आप इसको computer के साथ लगा सकते है या किसी भी तरह के sound system के साथ जोड़ सकते है

Speakers जो होते है वो transducers होते है जिनकी मदद से electromagnetic waves को sound waves में convert किया जा सकता है

Speaker को audio input computer या audio receiver जैसी device से दी जाती है. Audio input किसी भी form में हो सकती है analogy या digital form में speaker इसको audio में convert कर सकता है

Analog speakers जो होते है वो analogy electromagnetic waves को sound waves में convert करते है. वही जो digital speakers होते है वो पहले digital input को analogy signal में convert करते है उसके बाद sound waves को generate करते है

स्पीकर कैसे काम करता है | how do speaker work in Hindi

एक speaker में मुख्य तौर पर आपको एक cone, एक magnet, एक iron coil और एक case जिसके अन्दर ये सब फिट किया जाता है देखने को मिलेंगे

Speaker electrical energy को mechanical energy में convert करता है. Mechanical energy जो होती है वो air को compress करती है और उसको motion में convert करके sound energy बना देती है

जब speaker में तार के माध्यम से electric current को भेजा जाता है, तो यह वह एक चुंबकीय क्षेत्र को बनता है

एक speaker में, voice coil के ज़रिये करंट भेजा जाता है जो एक electric field को बनता है. यही electric field आगे magnetic field के साथ interact करता है ये जिस magnetic field के साथ interact करता है वो speaker के साथ लगे permanent magnet का होता है

एक magnet से Same charge एक दूसरे को repel करते है और different charge attract करते है. Audio signal को voice coil से भेजा जाता है जिसकी वजह से musical waveform ऊपर और नीचे होती है. और voice coil cone से जुड़े बड़े permanent magnet से आकर्षित और विकर्षित होती रहती है

इन्ही सब वजह से cone जो की voice coil जुड़ा होता है आगे और पीछे होता रहता है. और इसके ऐसे ही आगे और पीछे होने की वजह से हवा में pressure waves बनती जो की sound कहलाती है या जिसको की हम audio कहते है

ये पोस्ट भी पढ़े :

Dedicated/ external Speaker की आवश्यकता क्यों होती है | Importance of speaker Dedicated or external Speaker

Dedicated speaker की मदद से बहुत ही quality और loud sound produce किया जा सकता है. वैसे तो आज कल आपको TV, laptop या mobile में speaker inbuilt ही देखने को मिल जाते है. लेकिन इन साथ आने वाले speaker की एक सीमा होती है. एक तो ये बहुत loud नहीं होते दूसरे इनमें bass बहुत काम देखने को मिलेगी. अगर आप तेज़ आवाज़ और बेहतर quality का audio experience लेना चाहते है तो इसके लिए आपको dedicated speaker का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए

Types of Speakers in Hindi | स्पीकर के प्रकार

1. Bluetooth speakers

इस तरह के speakers का आज के समय में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है. इस तरह के speakers wireless होते है और इनको device के साथ connect करने के लिए आपको बस device में Bluetooth की जरूरत होती है

Bluetooth speaker एक portable device होती है. जिसको की आप easily कही भी carry कर सकते है आज के समय में आने वाले Bluetooth speakers बहुत ही अच्छी quality का sound output दे सकते है. Bluetooth device को आप recharge कर सकते है इसके अन्दर आप को rechargeable battery देखने को मिल जाती है. Bluetooth speakers भी अलग-अलग audio output capacity और size में आते है. कुछ तो इतने छोटे होते है की आप इनको बड़े ही आराम से अपनी जेब में डाल कर रख सकते है वही कुछ बड़े size के भी होते है जो portable तो होते है लेकिन उनका pocket में सामना संभव नहीं होता. लेकिन अगर आप पार्टी करने के शौक़ीन है तो आप ऐसे बड़े outdoor Bluetooth speakers का इस्तेमाल कर सकते है

2. Built-in speakers

ये वो speakers होते है जो आपके mobile, laptop और TV में inbuilt होते है. इसके अलावा और भी बहुत सी devices आती है. जिनमें inbuilt speakers आते है.

इनमें अधिकतर काम चलने लायक ही होते है और इनका बहुत अधिक अच्छा और loud sound quality नहीं होता. इस प्रकार के speaker की तुलना dedicated या external speakers से तो की ही नहीं जा सकती. क्यु की dedicated या external speakers इनकी तुलना में बहुत उच्च quality का sound produce कर पाते है. ये बस device की portability तो बनाने के लिए दिए जाते है ताकि device independently multimedia play कर पाए

ये पोस्ट भी पढ़े:

3. woofers

इस तरह के speakers को ज़्यादातर home theatre के साथ इस्तेमाल किया जाता है. और ये आपके home theatre के speaker group का हिस्सा होते है. ये speakers 80-1000 HZ low और medium frequencies को आसानी से produce कर सकते है. एक home theatre जितना wide range of dynamics का output दे पाए उतना बढ़िया रहता है. Woofers और subwoofers बहुत आसानी से low frequency spectrum को produce कर देते है. Subwoofers के ऊपर आगे चर्चा करेंगे

4. soundbar

Soundbar speaker को आमतौर पर TV के साथ इस्तेमाल किया जाता है. Soundbar एक लम्बा सा speaker से भरा casing होता है. इसकी casing में multiple speaker place किये होते है. ये इतने effective होते है की 5.1 या 7.1 जैसा experience आपको provide करवा सकते है. हलांकि उसके तुलना में ये loud थोड़े कम होते है

अगर आप home theatre system नहीं लगाना चाहते कारण चाहे जो भी हो ऐसे में soundbar एक अच्छा विकल्प हो सकता है home theatre system का. Soundbar जो होती है वो Bluetooth speaker की तरह ही compact होती है लेकिन soundbar casing में आपको कई speaker एक साथ लगे मिल जाते है जैसे की tweeters और woofers आदि

जो आपको home theatre जैसा experience provide करते है

5. computer speakers

जितने भी tower pc आते है उन में speaker नहीं लगा होता बस tower PC के अंदर soundcard लगा होता है. जिसके अन्दर user headphone या desktop speakers लगा सकता है. आपको market में computer speaker भी देखने को मिल जायेंगे.

Computer speakers 2.1, ५.1 और ७.1 channels के आते है. ज़्यादातर computer speakers जो होते है वो plug and play होते है. मगर pc और laptop के साथ लोग ज़्यादातर 2.1 channel speaker को ही ज्यादा इस्तेमाल करते है

6. On-wall speakers

On wall speakers को आप आराम से दीवार पर लगा सकते है. on-wall speakers में आपको wall mounting brackets मिल जाती है. जिनकी मदद से आप इसको दीवार पर टंग सकते है. हलांकि on-wall speakers के wires को आपको hide करने में समस्या का सामना करना पड़ सकता है. क्यु की आप सभी speakers को एक साथ तो लगायेंगे नहीं तो जो तार एक speaker से दूसरे speaker तक जाएगी उसको आपको hide करने के लिए baton पट्टी का इस्तेमाल करना पड़ सकता है इसके लिए आप किसी electrician की मदद ले सकते है. हलांकि आप चाहे तो ये काम खुद भी कर सकते है baton पट्टी आपको बाज़ार में बेहद कम दामों पर मिल जाएगी. इसके अलावा और भी तरीके है जिनकी मदद से आप speaker wires को hide कर सकते है

7. Outdoor speakers

Outdoor speakers काम तो indoor speakers की तरह ही करते है लेकिन ये थोड़े robust होते है या कहे outdoor environment को सहन करने के लिए इनको बनाया जाता है.

जैसे की heat, rain, humidity harsh wind waves, इस तरह के speakers आपको parks जैसी जगहों पर देखने को मिलेंगे. ये outside से काफी tuff होते है और इसको tuff weather conditions का सामना करने के लिए बनाया जाता है

8. Tweeter

ये दिखने में बहुत छोटे होते है और इनको treble speakers के नाम से भी जाना जाता है. ये upper audible spectrum को reproduce करने के लिए होते है tweeter 2000 से 20000 HZ तक की sound frequency को deliver कर सकते है

ये बहुत छोटे से होते है. Woofer और subwoofers के तरह ये भी speaker group का हिस्सा होते है इनको independently audio के लिए play नहीं किया जा सकता है

9. Studio speakers

Studio speakers का इस्तेमाल professional recording artist के द्वारा किया जाता है. एक studio monitor जो होता है

वो music और vocals को बहुत ही hi quality में produce कर सकता है. इसकी इसी quality की वजह से इसको professional recording और music artist इस्तेमाल करते है

10. subwoofers

एक sub-woofer जो है वो एक omnidirectional speaker होता है जिसका कार्य होता है low-frequency sound को निकलना. ये 20 से 200 Hz range की audio deliver कर सकता है. जिसमें bass प्रमुख रूप से होती है sub-woofers आपको speakers system या home theatre के साथ जरूर देखने को मिलेगा आज के समय में. फिर चाहे वो car speaker system हो या computer speaker system sub-woofers आपको जरूर मिलेगा क्यु की quality sound के लिए bass का होना बहुत जरूरी है

अपने लिए सही स्पीकर का चुनाव कैसे करे | how to choose right speaker in Hindi

सबसे से पहले आपको ये देखना होगा की आप speaker का इस्तेमाल कहा और किस कार्य के लिए करना चाहते है. जैसे की अगर आप personal इस्तेमाल के लिए speaker चाहते है जो की आप हर जगह carry कर सके और जिसकी sound quality अच्छी हो पर बहुत अधिक loud न हो यानी 50W से कम और speaker size भी अधिक न हो तो ऐसे में आप एक बढ़िया company का Bluetooth speaker ले सकते है

इसके अलावा अगर आप home theater experience चाहते है TV के साथ तो आप soundbar या home theatre system buy कर सकते है. हलांकि soundbar की अगर home theater से तुलना करें तो soundbar quality तो home theatre जैसी देने में capable है लेकिन ये loudness के मामले में home theatre से कम ही होती है

इसके अलावा अगर आप professional recording artist है तो आप studio monitor का चुनाव कर सकते है

इसके अलावा speaker के चुनाव के समय जो बात सबसे अहम हो जाती है वो है आपका budget और speaker की quality. Speakers बहुत cheap से बहुत high price तक के आते है. जो की अलग music experience भी provide करते है. तो ऐसे में speaker का चुनाव करते समय आपको speaker को play करवाकर उसकी music quality को जरूर सुनना चाहिए. speaker बेहद कम कीमत से शुर हो जाते है और एक quality speaker काफी costly आ सकता है जैसे की ये Bang & Olufsen Beoplay A9 4th Gen Wireless Multiroom Speaker is speaker की कीमत 200000 से अधिक है

मल्टीमीडिया स्पीकर क्या होते है | what are multimedia speakers in Hindi

Basically, multimedia speakers’ complete connectivity, sound और aesthetics offer करते है. और आप इस तरह के speakers को अपनी विविध प्रकार की जरूरत के लिए इस्तेमाल कर सकते हो जैसे की टीवी देखना, moviesदेखना या games खेलना ये सभी जगह इस्तेमाल में लाये जा सकते है

Multimedia speakers को हम channel के basis पर divide कर सकते है. ये 2 channel से ८ channel तक आते है इसके अलावा multimedia speakers को हम audio signal transmission के basis पर भी categories कर सकते है

2.1, 5.1, 7.1 or 8.1 multimedia speaker आपको देखने को मिल जायेंगे. यहाँ पर 2,5,7,8 speakers की संख्या है. वही जो पीछे .1 जुड़ा है वो subwoofers की संख्या को दर्शाता है.

तो दोस्तों आशा करते है की speaker kya hai और speaker कैसे काम करता है आप ये जान गए होगे अगर आपके मन में speaker को लेकर कोई सवाल हो तो आप हमसे comment section में पूछ सकते है

Devanshu wadhwa

मैं एक ब्लॉगर व इस ब्लॉग का संस्थापक हु यहाँ इस ब्लॉग पर अपने पाठकों के लिए उपयोगी जानकारी लिखता हूं आप चाहे तो हमारे ब्लॉग को सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है
Facebook | Instagram | Telegram

Spread the love

Leave a Comment