सेटेलाइट क्या है पूरी जानकारी | satellite kya hai

satellite kya hai | सेटेलाइट क्या है      

कोई भी planet, moon या machine जो किसी दूसरे planet/तारे का चक्कर लगते है या उसके orbit में होते है उसको satellite कहते है.

उद्धरण के लिए हमारी धरती जो है वो sun के orbit में है तो वो satellite है. ऐसे ही moon जो धरती के orbit में है और धरती के चक्कर लगता है तो वो भी satellite है. और ये सभी प्रकिर्तिक satellite है

आप को बता दे की satellite दो तरह की होती है एक होती है प्रकिर्तिक और दूसरी होती है कृत्रिम satellite

वैसे आमतौर पर satellite word का इस्तेमाल उस men made machine के लिए किया जाता है जो धरती से आकाश में भेजी जाती है और धरती के या किसी अन्य planet के चारों तरफ चक्कर लगाती है. इस तरह के satellite artificial होती है  और इनको manmade satellite भी कहा जाता है.

सैटेलाइट का हिंदी अर्थ | सैटेलाइट का हिंदी क्या होता है

Satellite को Hindi में उपग्रह कहते है और अगर satellite man made है तो उसको कृत्रिम उपग्रह कहते है

सैटेलाइट का उपयोग कहां-कहां किया जाता है

जैसा की हमने आपको बताया की artificial satellite man made होते है और इन्हें किसी कार्य के लिए space में भेजा जाता है हर satellite का एक अलग कार्य होता है. तो आइये जानते है की कृत्रिम उपग्रह का कहा-कहा इस्तेमाल किया जाता है

  • Navigation में – जो हम मोबाइल में gps का इस्तेमाल कर पाते है वो satellite के कारण ही संभव हो पता है. न सिर्फ मोबाइल में बल्कि आज के समय GPS का उपयोग बहुत जगह होता है ola, zamato जैसे business को बिना GPS system के खड़ा करना बहुत मुश्किल था.
  • Television signal distribution में   – television signals आप सीधे satellite से प्राप्त कर सकते है इसके लिए आपको बस एक dish लगनी होती है घर की छत पर. Television signal को direct to home (DTH) करने के लिए satellite भेजे जाते है. इसके अलावा केबल network और network TV ले लिए भी satellite का होना बहुत ही जरुरी है. TATA SKY जैसी services बिना satellite के संभव ही नहीं
  • Weather forecast के लिए – जो आप tv पर या मोबाइल आप पर weather रिपोर्ट देखते है वो report बनाना weather satellite की वजह से ही संभव हो पाया है. Weather information पाने के लिए weather satellite भेजे जाते है. जो समय-समय पर weather की information भेजते रहते है  
  • Space science research के लिए – space science research के लिए भी satellite भेजे जाते है जो दुसरे ग्रहों के बारे में जानकारी भेजते है और फिर information के मुताबिक research की जाती है
  • Communication के लिए – satellite phones का इस्तेमाल ऐसी जगह किया जाता है जहा पर मोबाइल networks न पहुंचे हो. या military के द्वारा भी satellite phones का इस्तेमाल किया जाता है. satellite फ़ोन के इस्तेमाल से आप दुनिया में कही से भी बात कर सकते है चाहे वह mobile network हो या न हो. ऐसे फ़ोन को चलने के लिए भी satellite भेजी जाती है

In सबके अलावा और भी कई तरह की satellites को space में भेजा जाता है हर किसी का मकसद अलग-अलग होता है  ऊपर बताई satellite के अलावा भी कई तरह की satellite होती है 

सैटेलाइट कितने प्रकार के होते हैं | Types of satellite in Hindi

मुख्यता satellite 9 तरह की होती है

  • remote sensing satellite
  • geocentric orbit type satellite
  • drone satellite
  • communication satellite 
  • ground satellite
  •  nano, cube या small stat satellite
  • Navigation satellite
  •  polar satellite 
  • Global positioning satellite
  • Geostationary satellites

vishwa ka pehla satellite

विश्व का पहला satellite sputnik 1 था जो की सोवियत यूनियन के द्वारा 1957 में launch किया गया था 

सेटेलाइट का फोटो | सेटेलाइट कैसी होती है

 

Satellite की photo आप नीचे देख सकते है इस satellite को राकेट की मदद से space में भेजा जाता है जहां पर ये पृथ्वी के चक्कर लगता है और जिस काम के लिए इसको भेजा गया है उस काम से जुडी सारी जानकारियाँ वैज्ञानिकों तक पहुँचता है

भारत में कितने सेटेलाइट है

भारत 197५  से satellites launch कर रहा है और इस field में काफी आगे है. ISRO (Indian space research organisation) ना सिर्फ भारत के लिए satellite launch करता है बल्कि दूसरे देशों के लिए भी satellite launch कर के देता है  

ISRO अभी तक 342 satellites launch कर चूका है हलांकि isro ने ये सभी satellites India के लिए launch नहीं किये है इसमें दूसरी 36 country के satellites भी शामिल है     

ISRO किसी भी country का satellite को launch करने के लिए उस से फीस लेते है वो ये काम free में नहीं करता. ISRO भारत सरकार के under कार्य करता है और ये एक सरकारी space एजेंसी है

ISRO बेहद कम कीमत या कहे cost effectiveness में satellite launch कर देता वही world की दूसरी space एजेंसी ऐसा नहीं कर पाती. इसी कारण बहुत से देश ISRO से अपना satellite launch करवाना पसंद करते है 

ये post भी जरुर पढ़े:

सैटेलाइट कैसे काम करता है 

Satellite जरुरत के हिसाब से अलग-अलग size व shape की होती है जैसा की हमने आपको बताया की हर satellite का एक अलग purpose होता है. और उसी के हिसाब से किसी भी satellite को बनाया जाता है. पर satellite कैसा भी हो उमसे दो चीज़ें तो आपको जरूर देखने को मिलेगी एक antenna दूसरी power source .

Antenna की मदद से satellite धरती को signal भेजती व receive करती है. और power source की मदद से satellite की चलने के लिए जरूरी ऊर्जा का निर्माण किया जाता है.

सेटेलाइट फोन क्या है

Satellite फ़ोन एक तरह का मोबाइल फ़ोन होता है जिसमें sim डालने की जरूरत नहीं पड़ती और अगर किसी जगह मोबाइल signal नहीं भी है तो भी satellite का इस्तेमाल करके कही भी call की जा सकती है और बात कर सकते है. Satellite फ़ोन सीधे satellite से जुड़ा होता है और satellite फ़ोन का call charges बहुत हाई होता है और ये आम फ़ोन नहीं है जिस का इस्तेमाल हर कोई करे

निष्कर्ष

Satellites ने मानव जीवन को आसान बनाने का काम किया है फिर चाहे वो google maps हो या weather and crisis for caste. इन सब की satellite के बिना कल्पना भी नहीं की जा सकती.  तो ऐसे में आज की नयी technology में satellites का अहम योगदान है

dtt logo

ये लेख devtechtips.com की संपादकीय टीम के द्वारा लिखा गया है आप चाहे तो हमारे ब्लॉग को सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है
Facebook | Instagram | Telegram

Spread the love

Leave a Comment